देश की गरिमा से खेलते नेता….

यह कोई छोटी बात नही है , एक बेहद गंभीर मामला है । क्योंकि यह सीधे सीधे देश के सम्मान से जुड़ा है । इस पर त्वरित कार्रवाही होना ही चाहिए ।
महत्वपूर्ण पदों पर बैठे नेताओं द्वारा असभ्य भाषा का प्रयोग करते हुए एक दूसरे पर कीचड़ उछालने का मानो फैशन सा चल पड़ा है । कोई किसी से पिछे नहीं रहना चाहता । राखी सावंत भी नही । दुर्भाग्य से इनमें से किसी में भी इतनी समझ नही है अंतर्राष्ट्रिय स्तर पर देश की साख को नुकसान पहुंच सकता है ।
कहीं ऐसा न हो कि इस तरह की बेवकूफाना हरकतें हिंदुस्तान की पहचान बन जाए ।

सोचते सब हैं , जानते सब हैं , मानते भी सब हैं , मगर अफ़सोस , वोट इन्हीं को ही दे आते हैं ।
उम्मीद है , कभी तो जनता अपने वोट का सदुपयोग करेगी ।